निशा की स्वादिष्ट चूत का आनंद-1


hindi sex kahani हेलो दोस्तो, मेरा नाम मनोज कुमार सेनी हैं. और मै दिल्ली रहता हूँ. मेरी उम्र 23 वर्ष है. और मैं 5′ 7″ हूँ. मैं आज अपनी पहली स्टोरी इसमे मे डाल रहा हूँ, अब तुम लोगो को आनंद दिलाता हूँ. और इस कहानी मे मैं आपको बताऊंगा की कैसे मैने अपनी एक गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स किया.

मेरा ये पहला सेक्स एक्सपीरियेन्स था. और मैने उसकी जमकर चुदाई की. मेरे आज के सेक्स एक्सपीरियेन्स के बारे मे मैं आपको बाद मे बताउंगा अगर ये स्टोरी आपको अच्छी लगी. तो दोस्तो बात उस टाइम की है जब मैं बी.एसी कर रहा था. जब में कॉलेज में था. तो मेरी फ्रेंडशिप निशा से हुई.
वो ज़्यादा सेक्सी नहीं थी. लेकिन अपने आपको बहुत मेनटेन करके रखती थी. और दिखने मे खूबसूरत थी. जब एक दिन पहली बार मैं उसके साथ कॉलेज की केन्टीन मे बैठा था. तब उसके बोब्स देख कर मूझे कुछ होने लगा था. सच में उसके बोब्स तो ऐसे लग रहे थे. जैसे कोई पानी से भरा गुब्बारा सामने हो.
और मेरा मन कर रहा था. की में उसके बोब्स को वहीं रेस्टोरेंट पर चूसना रगड़ना शुरू कर दूँ. मगर वहाँ उस समय कुछ नही कर सका. क्योकी दिन मे केन्टीन मे सब आते जाते रहते थे. पर मैने उसे चोदने की ठान ली उसी वक़्त. फिर टाइम के साथ हम मिलते रहते थे. और धीरे धीरे पास आने लगे.
हमारे कॉलेज की केन्टीन मे शाम के वक़्त सन्नाटा रहता है. और काले शीशे लगे होने की वजह से बाहर से दिखता भी नही, एक दिन मैं उसके साथ शाम को केन्टीन मे बैठा था. और मुझे याद है तभी पहली बार मैने उसे किस किया, सच मे वो इतनी रसीली लगी की मैने उसके होटो को 10-15मिनिट तक लगातार चूसा.
पहले मैने उसके गाल पर किस किया और फिर धीरे से उसके दूसरे गाल पे हाथ रखकर फेस अपनी तरफ घुमाया और लिप्स पे एक किस किया. फिर अपनी चेयर उसकी चेयर के ठीक सामने रखी. और उसके चेहरे को अपने हाथो मे लेकर उसके उपर के लीप्स को मुँह मे लेकर चूसा और छोड़ दिया, उउउंमा दोस्तो क्या कहु कितना अच्छा लगा मज़ा आ गया कसम से.
फिर मैने चेयर उसके बगल मे लगाई और उसे अपनी गोद मे लिटा लिया और उसके चेहरे को ऊपर करके उसके ऊपर झुक गया, और अपने होट उसके होटो पे रख दिए, उसके होंठो को मुँह मे लेकर चूस्ता रहा. और फिर अपनी जीभ से उसके होटो को चाटा, धीरे से फिर उसके नीचे के होट को मुँह मे लेकेर चूसने लगा, उसका मुँह थोड़ा सा खुल गया और मैने अपनी जीभ उसके मुँह मे डाल दी.
और इधर उधर हिलाकर उसका मुँह अंदर से चाटने लगा, उूउउंम्म यय्युममम क्या मस्त लग रहा था. गीला गीला सा मीठा सा वो एहसास.
मेरे हाथ उसको यहा वाहा सहला रहे थे और वो मेरे गले मे हाथ डालकर मेरी गोद मै लेटी हुई थी.फिर धीरे से मैने अपना एक हाथ उसके बोब्स पे हिलना शुरू किया और वो मचल उठी, उसने भी कसके मेरे लिप्स को चूसना शुरू कर दिया और मेरी जीभ भी चूसने लगी. फिर काफ़ी देर तक मैं उसके होटो को और जीभ को चूस्ता रहा और साथ मे उसके बोब्स और पूरी बॉडी मसलता रहा.
अचानक हमे लगा कोई आ रहा है और वो उठ के चेयर पे ठीक से बैठ गयी और मैं भाग के काउंटर पर कोल्ड ड्रिंक लेने चला गया. लौटकर आया तो वो मुँह नीचे करके बैठी थी और शर्मा रही थी, मैं समझ गया और उसके पास जाकर उसका हाथ पकड़ा और हाथ पर किस किया, फिर बिना कुछ बोले हम वाहा से चले गये.
उसके बाद एक दिन हम दोनो मूवी देखने गये. मैने दो टिकिट ली और कॉर्नर सीट पे जाकर बैठे हम, मूवी थोड़ी पुरानी थी तो ज़्यादा भीड़ नही थी वाहा. थोड़ी देर मे मूवी शुरू हुई. तो मैने उसके कंधे पे हाथ डालकर उसका सिर अपने कंधे पे रख लिया. और हम मूवी देखने लगे. थोड़ी देर बाद मैने अपना हाथ हिलाया और उसकी सुरहीदार गर्दन सहलाने लगा.
उसने मुड़कर मुझे बड़ी स्वीट सी एक स्माइल दी, फिर मैंने उसके गाल पे किस किया और उसका फेस अपनी तरफ करके एक लंबा इस्मोक्च किया. थोड़ी देर मे उसे भी मज़ा आने लगा. और वो मेरा साथ देने लगी फिर उसने मूझे अपनी तरफ खीचा और मूझे कस के जकड़ लिया और मेरे लिप्स चूसने लगी. तो मुझे मस्त मज़ा आया फिर मैने उसे और ज़ोर से किस किया.
तो उसके बोब्स मेरे चेस्ट को छूने लगे फिर मैने उसकी शर्ट के ऊपर से उसके बोब्स खूब दबाए और रगडे, थोड़ी देर बाद मैं उसकी शर्ट के अंदर से हाथ डालकर उसकी ब्रा के ऊपर के ऊपर से उसकी चूचिया खूब दबाई. और फिर ब्रा की हुक खोल दी तो उसने कहा प्लीज़ ऐसा मत करो तो मैने कहा क्यों तो कहने लगी मूझे शरम आ रही है. तो मैने कहा इसमें शरम वाली क्या बात है.
यार थोड़ी देर मस्ती करेंगे और फिर हमे यहा देखने वाला कौन है. तो फिर मैने उसकी बेक पे हाथ रख करना शुरू किया. तो उसको मज़ा आने लगा तो मैं फिर धीरे धीरे अपना हाथ उसके बोब्स पर ले आया तो उसको और मज़ा आने लगा तो उसने अपने हाथों से मूझे अपनी तरफ खीच लिया.
और मेरे साथ लिपट गयी तो मुझसे कहने लगी की ठीक है आज कर लो जो भी करना हैतो मैने फिर उसकी कमीज़ ऊपर की और उसके बोब्स को चूसना शुरू कर दिया. और वो अपने हाथो से मेरे बालों में हाथ फेरने लगी. और मेरे सर को ज़ोर से अपने बोब्स की और दबा दिया. उसको कुछ कुछ होने लगा. और वो मदहोश होने लगी.
और मुझसे कहने लगी मनोज मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकती, में तुमसे आखरी बार कहती हूँ की मै तुमसे बहुत प्यार करती हूँ. वो फिल्म मुझे कभी भी नहीं भूलती जब भी मैं एसी फिल्म को टीवी में देखता हूँ. तो मुझे वो सीन याद आ जाता है. फिर हमारी लाइफ इसी तरह आम रुटीन में चलती रही. और फोन पर बाते होती रहती और फिर धीरे धीरे फोन सेक्स भी शुरू हो गया.
फोन पे सेक्स करने का मज़ा ही अलग था. एक दूसरे को फोन पे किस करना, ओरल सेक्स करना और इमेंजिन करना की हम एक दूसरे के साथ है. और सेक्स कर रहे है. एक दिन मैने उसे फोन किया और थोड़ी देर इधर उधर की बाते करने के बाद मैने उसे बोला तुम मेरे पास मेरे बेड पे आ जाओ, वो बोली आँखे बंद करो और देखो मैं तुम्हारे पास ही तो हूँ.
फिर हमने फोन सेक्स किया मस्त होकर.पहले फोन पे किस ली, फिर उसके साथ सेक्स की बातें की जब वो गरम हो गयी. मुझसे कहने लगी मनोज बस करो मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा है, प्लीज़ बस करो तो मैने उससे कहा की अभी तो क्या हुआ अभी तो शुरू हुआ है. फिर धीरे धीरे मैने उसको एक एक करके कपड़े खोलने को कहा, तो कहने लगी मुझे शरम आ रही है.
तो मैने कहा अगर तूम्हे फोन पे शरम आ रही है. तो तुम सामने क्या करोगी. फिर मैने बड़े प्यार से उसको कहा की पहले आपनी कमीज़ खोल फिर उसकी ब्रा खुलवा दी.उसके बाद उसको कहा की अपने बोब्स पे हाथ फेरे तो उसने वैसा ही किया. तो फिर उससे मैने उसकी सलवार खुलवा दी. और उसके बाद उसकी पेंटी. जब वो नंगी हो गयी तो फिर क्या था. में भी जोश में आ गया था.
तो मैने आहिस्ता आहिस्ता उसको एहसास करया की जैसे में उसके पास हो तो वो कहने लगी प्लीज़ मनोज तुम अभी के अभी मेरे पास आ जाओ. प्लीज़ मुझे मत तड़पाओ और बरदाश्त नहीं कर सकती. तो मैने उसको कहा की समझ मैं तेरे पास ही हूँ और उसको कहा की अपनी उंगलियों को मेरा लंड समज ले और उसे अन्दर बाहर करे. जैसे चुदाई करते हैं. इधर में भी जोश में आ गया था और अपने लंड को पकड़कर मुट्ठीलीला शुरू कर दी थी.
जैसे जैसे में जोश में आ रहा था. उसको भी जोश आ रहा था. में उसको कह रहा था निशा और तेज़, और तेज़ मुझे मज़ा नहीं आ रहा तो वो और जोश में आ जाती और उसके मूहँ से आवाज़े निकल रही थी. आआअहह…………. उूुुउऊहह…….बाआसस्सस्स…….….और नहीं इतनी ज़ोर से मत करो मनोज में मर जाऊगी. उसकी आवाज़ में वो दर्द और मज़ा मुझे मज़ा दे रहा था. फिर कुछ देर के बाद वो कहेने लगी की मेरा पानी निकल गया और इधर में डिसचार्ज हो गया था.
फिर एक दिन उसने मुझसे अचानक ही एक ऐसी बात बोली की वो बात सुनके मेरी तो जैसे किस्मत ही खुल गयी. उसने कहा मनोज मै तम्हारे लिए कोई भी हद पार कर सकती हूँ. ये सुनकर मैने तो मस्त हो गया और फटाक से बोला जब भी तुम चाहो. कुछ दिन बाद मैने उसे फोन किया और कहा की चलो आज कहीं घूम कर आते हैं. वो बोली चलो मैं आती हूँ थोड़ी देर मे तेयार होकर.
वो आई तो दोस्तो सच मे कोई मॉडल से कम नही लग रही थी. उस दिन, फिर मैने बोला चलो कहाँ चलना है, वो बोली कहीं भी तो मैने कहा चलो आज अपने एक फ्रेंड के घर ले चलता हूँ. वहाँ आज कोई नहीं है, चलो चलते हैं वहाँ जाके टाइम पास करेंगे. वो झट से तेयार हो गयी. मैने भी सोचा चलो आज मौका अच्छा है.
फिर मैने बाइक स्टार्ट की और उसे बिठाया और चल पड़ा अपनी मंज़िल की और, सच बताऊ दोस्तो उस दिन वो 5मिनट का रास्ता बड़ा लग रहा था. कैसे घंटो मे भी ख़त्म ही नही हो रहा था.खैर थोड़ी देर मे हम वहाँ पहुच गये. अंदर गये तो मेरा दोस्त अकेला था.मैने उसे पहले ही समझा दिया था, वो कुछ लेने के बहाने बाहर चला गया और हम घर मे अकेले हो गये. पहले तो मुझे बिठाया की फिर उसने मुझे चाय बनाकर पिलाई. फिर क्या था मैने उसे पास खीचा और उसको जकड़ लिया और उसको रगड़ना शुरू कर दिया. उसको अपनी गोद में उठाकर सोफे पर लिटाया और उसके बगल मे लेट गया.सोफा बेड के जैसा चौड़ा तो होता नही इसलिए चिपक के लेटने मे मज़ा आ रहा था.
फिर आहिस्ता आहिस्ता हम एक दूसरे को चूमते चूस्ते हुए एक एक करके कपड़े उतारने लगे. फिर मैने उसके बोब्स तो चूसना चालू कर दिया तो उसके मुँह से सिसकियाँ निकलने लगी. कहने लगी मनोज आई………. लव……….यू प्लीज़ ऐसा मत करो…… आआअहह….…….मनोज खा जाओ इनको यह कब से तुम्हारा इंतज़ार कर रहे थे. आज खा जा इनको पीऐ जाओ सारा दूध. उसके सॉफ्ट बोब्स इतने मस्त थे. जैसे रूई का गोला हो.
हम दोनो किस करने लगे फिर दबा के और उसने अपनी जीभ मेरे मुहं मैं डाल दी. उसे मज़ा रहा था और उसके मूहँ से आवाज़े निकल रही थी. उ….ऊ….ह…ह बस करो मैं मर जाउंगी. फिर उसने बताया की उसकी पेंटी के अंदर कुछ कुछ होने लगा है.मैने पुछा क्या होने लगा है। और पेंटी के अंदर कहा.तो उसने मेरी चड्डी के ऊपर हाथ रखकर बोला यहा. उफफफफफ्फ़………… उसका हाथ लगते ही जैसे जन्नत मे पहुच गया.
और मेरे मुँह से निकल गया, हट साली कहाँ हाथ लगा रही है. झड़ जाउंगा. वो बोली अरे अरे क्या हुआ करंट लगा क्या. मैने बोला अभी दिखाता हूँ. रुक साली, मैने उसके निप्पल को एक हाथ से पकड़ा और चुटकी मे लेकर निचोड़ दिया और दूसरा हाथ उसकी स्कर्ट मे से ले जाकर उसकी पेंटी के ऊपर से उसकी चूत निचोड़ दी.वो सस्स्सिईईईई करके रह गयी. . .
आगे की कहानी अगले भाग में . . .
धन्यवाद …

Updated: April 12, 2019 — 7:51 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017
error:

Online porn video at mobile phone