नौकर का मजेदार लंड


Click to Download this video!

desi sex kahani मैं एक अपनी कहानी बताने जा रही हूँ. जो मेरे साथ हुई. मेरी शादी हुए 3 साल हो गये थे और मैं अपने पति के साथ नये सिटी मे आ गयी थी. उधर सब कुछ अरेंज करने मे काफ़ी टाइम निकल गया. अब मैने अपने पति राज से बोला की एक नोकर रख लो घर पे. वो मान गये और अपने पड़ोस मे ढूँढने लगे. एक मिल गया उसकी उम्र कुछ 28 की रही होगी मजबूत कद का और लंबे कद का मोहन नाम था उसका।
वो शाम को घर आया पति कहीं पर गये हुए थे और बोला था की मोहन शाम को घर आएगा तो मैं बात कर लू. मैने अपने 36 30 34 फिगर पे सारी डाली हुई थी और मेरा ब्लाउज कम गले का था. तभी घंटी बजी और मैने दरवाजा खोला तो देखा की मोहन खड़ा हुआ था और बोला मेडम मे मोहन. मे उसे अंदर ले आई और उसकी नज़र मेरे चुचियो पे ही थी. मैने देखा की वो तोड़ा झिझक रहा था। मैं उसे सभी काम समझा रही थी तभी नीचे झुकने से मेरा पल्लू नीचे गिर गया। और मेरे 36 ब्रेस्ट आधे बाहर नज़र आने लगे. वो उन्हे घूर के देख रहा था।
वो चला गया और अब जब राज ऑफीस मे होते थे तभी वो आता था और मेरी बॉडी को देखते देखते काम किया करता था. मुझे शुरू से ही पॉर्न फिल्म देखने की आदत थी कभी कभी राज के साथ भी देखती थी। एक बार मैने स्कर्ट डाली थी और उसके ऊपर शॉर्ट टॉप था. मे पॉर्न फिल्म देख रही थी. रूम मे और स्कर्ट ऊपर कर के अपनी चूत को मसल रही थी तभी वो आ गया अंदर और एक दम से मेरा पानी निकल आया। मैने स्कर्ट नीचे कर दी और कुछ बूंदे स्कर्ट पे गिर गई. उसने देखा और चला गया।

एक दिन मै लॉन मे घूम रही थी सारी पहनी थी मैने और मैं हमेशा से लो नेक ब्लाउस ही पहनती हूँ. तभी मैने देखा की मोहन बाथरूम मे सू सू कर रहा था और मैने उसका 8 इंच का लंड देखा और मन ही मन उछली. पति का मुश्किल से 6 इंच का होगा पता है। फिर मे अचानक उधर गयी और वो घबराकर उसे छुपाने लगा। फिर मैं उसे अपने साथ रूम मे ले गयी और बोली की तुमने जान बूझकर डोर खोला था की मैं देख लूँ। वो बोलने लगा की नही मेडम मैने सोचा आप अंदर होंगी. खैर मैने धोखे से अपना पल्लू गिरा दिया और बोला की अपने कपड़े उतारो वो मुस्कुरा दिया ओर नंगा हो गया. में उसके लंड को सहलाने लगी।
उसका लंड मोटा और काला था. उसने मेरी सारी और ब्लाउज उतार दिया और बेड पे लिटा कर चूमने लगा और एक हाथ से पेटिकोट भी उतार दिया। मेने पेंटी नही डाली थी. एक उंगली मेरे अंदर डाल कर चूत मे घूमाने लगा. मैं धीरे धीरे आवाज़ करने लगी वो बोला मेडम आपकी तो अभी भी टाइट है। मैने बोला मोहन तुम ढीली कर दो. उसने ब्रा के हुक खोल दिए। अब मैं उसके सामने एकदम नंगी थी. वो मेरी चुचियो को चूसने लगा और काट भी लेता था।

मैने बोला की मोहन आराम से करो पूरा दिन है अपने पास। फिर मैने उसका लंड लेकर चूसने लगी और कभी उसके लंड को दबाती और कभी उसके लंड को अपने हाथ से ऊपर नीचे करती। 10 मिंनट तक चूसने के बाद सारा पानी मेरे मूह मे ले लिया और पी गयी. फिर हम लिपट के लेटे रहे। थोड़ी देर बाद फिर उसका लंड टाइट हो गया था. इस बार उसने मुझे लिटाया और मेरी टाँगे फैला कर अपना लंड मेरी चूत पे रख दिया और धक्के मारने लगा मैं चील्ला पड़ी की आआहह उ उ उई माँ आ…आ.. मोहन आराम से डालो। फिर वो बोला मेडम कुछ नही होगा सब ठीक हो जाएगा और एक ज़ोर का धक्का मारा ओर पूरा लंड अंदर आ गया मैं दर्द से तड़प उठी। फिर उसने अपना लंड बाहर निकाला ओर फिर उसने अपने लंड को मेरी चूत पर फेरने लगा। मेरी चूत अब ओर गर्म ओ गयी. मेरी चूत उसके लंड को डालने के लिय बेताब हो रही ती। फिर मोहन ने आपना लंड मेरी चूत मे डाल दीया। उसने धक्के लगाने चालू किया और बोला मोना मेडम आप बड़ी मस्त हो. ओर अपने लंड को मेरी चूत मे अन्दर बाहर करने लगा। फीर उसने अपनी गति तेज कर दी। ओर मे उ उ उई ..उई माँ कर रही थी। और 20 मिनट तक उसने चुदाई की।

उसने सारा पानी अंदर ही डाल दिया. फिर हम दोनो 5 मिनट तक 69 मे लेटे रहे। मोहन मेरे चुचियो को दबा रहा था। फिर उसने कपड़े पहने और वो चला गया. अब में अपनी चूत को अपनी साड़ी से पोछने लगी। अब मैं घर पर नंगी भी होती हूँ। तो वो सारा काम करता है और हम चुदाई भी करते है। जब पति रात की शिफ्ट पे होते है तो वो आता है और हम सोते है. एक बार उसने अपने दोस्त से भी चुदवाया वो एक दिन मुझसे कहनें लगा की मेरा एक दोस्त हे उसे किसी को चोदने की बहुत मन है. लेकिन उसने कभी किसी ओरत को नही चोदा हे। मे उसको आप से चुदवाना चाहता हु। मेने मना कर दिया। मोहन बोला मान जाओ ना जान। मेने कहा की वो तुमारा दोस्त किसी से बोल दिया तो. वो बोला वो किसी से नही बोलेगा और मेने हां कर दी। फिर मोहन ओर उसके दोस्त ने दोनों ने मिलकर चोदा। में बेड पर नंगी लेटी रहती ओर दोनो एक एक करके मुझे चोदते। उन्होने मेरे फिगर को दबा दबा कर लटका दिया. ओर मेरी चूत को चोडी कर दी। फिर तो मोहन का दोस्त हर एक दो दिन मे आने लग गया. उसका नाम चंदु था। चंदू ओर मोहन कभी भी मुझे नंगा कर देते ओर फिगर को दबाते रहते. अंदर से रूम बंद कर मेरे ओर अपने कपडे उतार कर पुरे नंगे होकर टी.वी. या मूवी देखते थे।
ओर बहुत मस्ती करते ऐसा तक़रीबन 3 साल तक चला। उसके बाद अभी तक मुझे किसी दूसरे का लंड नही मिला।
और मुझे अभी तक किसी ऐसे लंड की तलाश है जो मुझे मस्त कर दें।

Updated: February 22, 2019 — 9:21 pm
Meri Gandi Kahani - Desi Hindi sex stories © 2017
error:

Online porn video at mobile phone